Home » Business

Business

यह है वो दस भारतीय कम्पनी जिन्होंने किये कमीयाबी के सौ साल पुरे|

2015-04-16 04:40:30 admin
नई दिल्ली. दो विश्व युद्ध, मंदी, आजादी की लड़ाई, लाइसेंस राज और भी न जाने क्या-क्या हो चुका है पिछले 100 सालों में, लेकिन क्या आज भी ऐसा कोई है, जिसने ये सब देखा होगा। जी हां, आज SYC News आपको बता रहा है ऐसी 10 कंपनियों के बारे में, जिन्होंने ये सब देखा और सहा। इन सबके बावजूद ये कंपनियां आगे बढ़ती रहीं और आज भी कामयाबी की सीढ़ियां चढ़ रही हैं।
 
आइए जानते हैं ऐसी ही 10 कंपनियों के बारे में, जो पिछले 100 सालों से बिजनेस कर रही हैं-
 
1- ब्रिटानिया
 
ब्रिटानिया इंडस्ट्रीज लिमिटेड फूड प्रोडक्ट्स कंपनी है। इस कंपनी की स्थापना 1892 में हुई थी। इसे पश्चिम बंगाल के गुप्ता परिवार ने 295 रुपए के निवेश से शुरू किया था। यह भारत की पहली ऐसी बिस्किट कंपनी है, जिसने ओवन का इस्तेमाल किया।
britannia
ये हैं ब्रिटानिया के प्रोडक्ट्स
 
ब्रिटानिया कंपनी बिस्किट, ब्रेड, केक, रस्क, दूध, मक्खन, घी, दही आदि में बिजनेस करती है। कंपनी का रेवेन्यू 46.70 अरब रुपए है। आपको बता दें कि इस कंपनी ने दूसरे विश्व युद्ध के दौरान सैनिकों को बिस्किट की सप्लाई की थी।
 
 
2- जेस्सोप एंड कंपनी
 
1788 में ब्रिटिश इंजीनियर विलियम जेस्सोप ने इसकी स्थापना की थी। इसे पहले ब्रीन एंड कंपनी के नाम से जाना जाता था। यह कंपनी करीब 226 साल पहले कोलकाता से शुरू हुई थी। यह पहली ऐसी कंपनी है, जिसने लखनऊ में लोहे का पुल और वेस्ट बंगाल में हावड़ा ब्रिज बनाया था। कंपनी की कुल इनकम 7832 लाख रुपए थी।
 
अब शामिल हो चुकी है रुइया ग्रुप में
 
फिलहाल यह कंपनी रुइया ग्रुप में शामिल हो चुकी है। आपको बता दें कि रुइया ग्रुप के चेयरमैन पवन के रुइया हैं। कंपनी रेलवे वैगन, क्रेन, कन्स्ट्रक्शन इक्विपमेंट आदि में काम करती हैं।
 
3- सेंचुरी टेक्सटाइल्स एंड इंडस्ट्रीज
 
सेंचुरी इंडस्ट्रीज की स्थापना नूसोरजी. एन. वाडिया ने 1897 में की थी। इस समय यह कंपनी सेन्चुरी टेक्सटाइल लिमिटेड के नाम से शुरू हुई थी। आपको बता दें कि नूसोरजी बॉम्बे डाइंग के मालिक नुस्ली वाडिया के परदादा हैं। अमेरिकी गृह युद्ध के दौरान इस कंपनी ने काफी कारोबार बढ़ाया। कंपनी का कुल रेवेन्यू 2010 लगभग 4543.18 करोड़ रुपए है।
 
बिरला ग्रुप ने खरीदा
 
तीन दशक बाद 1951 में इसे आर. डी. बिरला ने खरीद लिया। इस समय कंपनी के चेयरमैन कुमार मंगलम बिड़ला और प्रेसिडेंट आर के डालमिया हैं। कंपनी फैब्रिक, डिजाइनर कपड़े, डेनिम, कॉस्मेटिक्स, इंजीनियरिंग फाइल जैसे प्रोडक्ट्स बनाती है।
 
4- टीवीएस
 
टीवीएस कंपनी की शुरुआत 1911 में मदुरई में हुई थी, जिसे टी. सुंदरम अय्यर ने शुरू किया था। आपको बता दें कि इस कंपनी की जब tvsस्थापना हुई थी तो आम लोगों के पास कारें नहीं होती थीं। बसों में सफर करने वालों को बाइक मुहैया कराने का श्रेय इसी कंपनी को जाता है। कंपनी का कुल रेवेन्यू 2013 के अनुसार लगभग 70.89 अरब रुपए है।
 
ये हैं कंपनी के प्रोडक्ट
 
कंपनी इस समय टू व्हीलर और थ्री व्हीलर गाड़ियां बनाती है। इसके चेयरमैन वेणु श्रीनिवासन हैं। कंपनी मोटरसाइकिल, स्कूटर, ऑटो रिक्शा और स्पेयर पार्ट्स बनाती है।
 
5- डाबर
 
dabarडाबर भारत की सबसे बड़ी आयुर्वेदिक दवाएं और अन्य प्रोडक्ट बनाने वाली कंपनी है। इसकी स्थापना 1884 में एक फिजिशियन डॉ. एसके बर्मन के द्वारा पश्चिम बंगाल में की गई थी। भारतीय कॉरपोरेट जगत में डाबर का नाम 100 साल से ज्यादा पुराना हो चुका है। कंपनी का कुल रेवेन्यू 2013 के अनुसार लगभग 61.46 अरब रुपए है।
 
प्रोडक्ट
 
कंपनी के चेयरमैन डॉ. आनंद बर्मन, वाइस चेयरमैन अमित बर्मन और सीईओ सुनील बर्मन हैं। कंपनी डाबर आंवला, डाबर च्यवनप्रास, वाटिका, डाबर हनी, फेम, हाजमोला और रीयलगो जैसे प्रोडक्ट बनाती है।
 
6- आईटीसी
 
इसकी शुरुआत एक ब्रिटिश कंपनी ने 1910 में की थी। करीब 100 साल पहले शुरू हुई आईटीसी का नाम उस समय इम्पीरियल टोबैको था, जिसने डनहील और केंट नाम से दो चर्चित ब्रांड पेश किए थे। आज कंपनी के प्रोडक्ट्स करोड़ों लोगों की जिंदगी का अहम हिस्सा बन चुके हैं। आईटीसी सिगरेट बनाने वाली कंपनी की अपनी इमेज बदलने में कामयाब रही है। साल 1969 में अजित नरायण हक्सर ने इसे खरीदा और 1974 में इसका नाम आईटीसी रखा। कंपनी का कुल रेवेन्यू 2013 के अनुसार लगभग 45,102 करोड़ रुपए है।
 
कामयाबी का पर्याय
 
=> कंपनी का ई-चौपाल इनीशिएटिव हार्वर्ड बिजनेस स्कूल में केस स्टडी के तौर पर शामिल।
 
=> मुनाफे के लिहाज से प्राइवेट सेक्टर की पांचवीं सबसे बड़ी कंपनी है आईटीसी।
 
=> दुनिया की दिग्गज 10 एफएमसीजी कंपनियों की लिस्ट में शुमार है आईटीसी का नाम।
 
=> डाइवर्सिफिकेशन आइडिया पर काम करने के लिए 55 लोगों की मजबूत रिसर्च और डेवलपमेंट टीम।
 
7- टाटा स्टील
 
tata steelटाटा आयरन एंड स्टील कंपनी की शुरुआत दोराबजी टाटा के द्वारा 25 अगस्त 1907 में की गई थी, जो आज दुनिया की सबसे बड़ी स्टील निर्माताओं में से एक है। यह कंपनी दोराबजी टाटा ने अपने पिता जमशेदजी की टाटा ग्रुप के एक पार्ट के तौर पर शुरू की थी। कंपनी का नाम पहले टिस्को (TISCO) हुआ करता था, जिसे 2005 में बदलकर टाटा स्टील कर दिया गया।
 
प्रोडक्ट
 
इस समय कंपनी के चेयरमैन साइरस पलौन्जी मिस्त्री हैं और मैनेजिंग डायरेक्टर टी. वी. नरेन्द्रन हैं। कंपनी स्टील, फ्लैट स्टील प्रोडक्ट्स, लॉन्ग स्टील प्रोडक्ट्स, वायर प्रोडक्ट्स, प्लेट्स आदि बनाती है। कंपनी का कुल रेवेन्यू लगभग 1500 अरब रुपए है।
 
8- गोदरेज
 
गोदरेज ग्रुप का मुख्यालय मुंबई में है, जिसे गोदरेज फैमिली द्वारा मैनेज किया जाता है। इसकी स्थापना अर्देशिर (Ardeshir) गोदरेज और पिरोजशा (Pirojsha) गोदरेज ने 1897 में की थी। 1991 में कंपनी ने फूड बिजनेस शुरू किया।
 
गोदरेज रीयल एस्टेट, एफएमसीजी, इंडस्ट्रियल इंजीनियरिंग, होम अप्लाएंसेज, फर्नीचर, सिक्युरिटी, एग्री प्रोडक्ट आदि में बिजनेस करती है। कंपनी का कुल रेवेन्यू 2013 के आंकड़ों के अनुसार करीब 216 अरब रुपए है।
 
9- किर्लोस्कर
 
kirloskarयह कंपनी 1888 में किर्लोस्कर ब्रदर्स लिमिटेड के नाम से शुरू की गई थी, जो भारत की सबसे बड़ी पम्प और वॉल्व निर्माता कंपनी है। कंपनी का मुख्यालय पुणे में है। इसके चेयरमैन और एमडी संजय किर्लोस्कर हैं। 2012 के आंकड़ों के अनुसार कंपनी का कुल रिवेन्यू लगभग 153 अरब रुपए है।
 
प्रोडक्ट
 
कंपनी पम्प, इंजन, कंप्रेसर, वॉल्व, पिग आयरन, कन्स्ट्रक्शन, ट्रांसमिशन जैसे प्रोडक्ट बनाती है। कंपनी टोयोटा के साथ ज्वाइंट वेंचर के जरिए ऑटोमोबाइल सेक्शन में भी बिजनेस करती है।
 
10- शालीमार पेंट्स
 
शालीमार पेंट्स पेंट बनाने वाली कंपनी है, जिसकी स्थापना 1902 में हुई थी। आपको बता दें कि इसकी स्थापना ब्रिटिश एंटरप्रेन्योर एएन टर्नर और एसी राइट ने की थी। उस समय इसका नाम शालीमार पेंट्स कलर एंड वार्निश लिमिटेड था। कंपनी का मुख्यालय मुंबई में है।
कंपनी के प्रमुख लोगों में रतन जिंदल, गिरीश झुनझुनवाला और समीर नागपाल हैं। कंपनी का कुल रेवेन्यू 367.3 करोड़ रुपए है।

Posted in: BusinessTagged in: Birla GroupBritanniaCompanyDabarITCkirloskarProductssteeltataTVS100 Read more... 0 comments

अमेरिका में ब्‍याज दरें बढ़ने की आशंका से सहमे बाजार, सेंसेक्स 400 अंक लुढ़का

2015-03-09 06:15:51 admin
sensex-up2हफ्ते के पहले दिन भारतीय शेयर बाजार की शुरुआत गिरावट के साथ हुई है। सेंसेक्स और निफ्टी एक फीसदी से ज्यादा लुढ़क कर कारोबार कर रहे हैं। माना जा रहा है कि खराब अंतरराष्ट्रीय संकेतों के चलते बाजार में बिकवाली है। वहीं, एनएसई के सभी सेक्टर इंडेक्स में गिरावट है। बैंक, इंफ्रा, रियल्टी और आईटी शेयरों में सबसे ज्यादा गिरावट है।
 
क्यों गिरे शेयर बाजार
बाजार के विशेषज्ञ कहते हैं कि शुक्रवार को अमेरिका में आए बेहतर जॉब आंकड़ों से जल्द ब्याज दरें बढ़ने की आशंका बढ़ गई है। जिसके चलते अमेरिका और एशिया के शेयर बाजारों में भारी बिकवाली देखने को मिली है। भारतीय शेयर बाजार में भी इसी के चलते गिरावट है। हालांकि एक्सपर्ट यह भी मानते हैं कि छोटी अवधि में सेंसेक्स और निफ्टी में मुनाफावसूली देखने को मिलेगी। वहीं, लंबी अवधि में तेजी बरकरार रहने की उम्मीद है।
 
बाजार के विशेषज्ञों की राय
आईआईएफएल प्राइवेट वेल्थ मैनेजमेंट की सीनियर वाइस प्रेसिडेंट अनु जैन का कहना है कि निफ्टी के लिए 8850 के स्तर पर बेहद अहम सपोर्ट है। लिहाजा निफ्टी पर 8850 का स्तर टूटने पर 8650 तक के स्तर भी संभव हैं। वहीं 8980 का स्तर पार होने पर ही बाजार में मजबूती देखने को मिलेगी। अनु जैन के मुताबिक बैंक निफ्टी के चार्ट कमजोर नजर आ रहे हैं, लेकिन प्राइवेट बैंकों के चार्ट में मजबूती दिख रही है। वहीं आईटी शेयरों में फिलहाल कमजोर नजर आ रही है और चुनिंदा आईटी शेयरों में अगले कुछ दिनों तक कमजोरी जारी रह सकती है।

 
ट्रेड स्विफट के संदीप जैन का कहना है कि विदेशी बाजारों में गिरावट और अमेरिका में ब्याज दरें बढ़ने की उम्मीद से दिन भर बाजार में उतार-चढ़ाव के साथ कारोबार हो सकता है। ऐसे में निफ्टी 8850 से 9000 के दायरे में कारोबार कर सकती है।
 
मायस्टॉक के हेड लोकेश उप्पल कहते हैं कि भारतीय बाजार 8800-9000 इस ट्रेडिंग रेंज में रह थोड़ा उतार-चढ़ाव दिखा सकते हैं। निचले तरफ 8775-8800 की रेंज में बाजार को मजबूत सपोर्ट नजर आ रहा है। बाजार यहां पर थोड़ी थकावट दिखा सकता है।
 
बाजार का प्रदर्शन
इंडेक्स (9:45 AM) बढ़त/गिरावट स्तर
सेंसेक्स -1.10% 29,126
निफ्टी -1.15% 8,836
मिडकैप -0.74% 13,250
स्मॉलकैप -0.59% 5,797
बैंक निफ्टी -1.87% 19,379
फाइनेंस -1.80% 8,002
IT -1.44% 12,483
रियल्टी -1.33% 231.50
 

 

निफ्टी को सहारा देने वाले शेयर

शेयर बढ़त
JSPL 7.06%
डॉ रेड्डीज 1.26%
HUL 1.17%
ल्यूपिन 0.75%
RIL 0.56%
निफ्टी पर दबाव डालने वाले शेयर
शेयर गिरावट
हिंडाल्को -3.88%
एक्सिस बैंक -2.43%
अल्ट्राटेक सीमेंट -2.31%
ICICI बैंक -2.24%
कोटक महिंद्रा बैंक -2.22%

 

 

Posted in: Businesssensex-up2 Read more... 0 comments

अश्विन की लाइन और लैंग्थ जबर्दस्त थी: धोनी

2015-02-28 16:13:08 admin

पर्थ: कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने संयुक्त अरब अमीरात पर नौ विकेट से जीत दर्ज करने के बाद आफ स्पिनर आर अश्विन की तारीफ करते हुए कहा कि उनकी लाइन और लैंग्थ जबर्दस्त थी.

धोनी ने मैच के बाद प्रेस कांफ्रेंस में कहा ,‘‘ मुझे लगता है कि अश्विन ने बेहतरीन गेंदबाजी की . विकेट के अनुरूप गेंदबाजी में बदलाव जरूरी है . आपको सही लाइन और लैंग्थ से गेंदबाजी करनी होती है और वही अश्विन ने किया.’’

उन्होंने कहा ,‘‘ अश्विन ने तेज गेंदें भी फेंकी और काफी सफल रहा . उसे इन गेंदों पर भी दो विकेट मिले . उसकी लाइन और लैंग्थ काबिले तारीफ थी .’’ धोनी ने रविंद्र जडेजा की गेंदबाजी पर भी प्रसन्नता जताई जिसे पांच ओवर में दो विकेट मिले.

 

उन्होंने कहा ,‘‘ जडेजा को भी बाद में टर्न मिला . मैने उसे देर से गेंद सौंपी . मैं अपने तेज गेंदबाजों को कुछ ओवर और देना चाहता था लेकिन उसने उम्दा गेंदबाजी की .’’ चोट के बाद वापसी करने वाले भुवनेश्वर कुमार के बारे में उन्होंने कहा ,‘ भुवी ने अच्छी गेंदबाजी की . शमी सौ फीसदी फिट नहीं था लिहाजा हमने भुवी को उतारा ताकि शमी को आराम मिल सके . ’’

 

पूरी टीम अच्छा प्रदर्शन कर रही है: धोनी

 

संयुक्त अरब अमीरात पर नौ विकेट की जीत से विश्व कप में अपने अजेय अभियान को तीन जीत तक पहुंचाने वाले भारत के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने आज यहां कहा कि पूरी टीम अच्छा खेल कर रही है और खेल के सभी विभागों में निरंतर बेहतर प्रदर्शन कर रही है.

 

धोनी ने यूएई पर जीत के बाद कहा, ‘‘गेंदबाजों ने वास्तव में बेहतर प्रदर्शन करना शुरू कर दिया है ओर टीम खेल में इसका प्रभाव अन्य विभागों पर भी पड़ता है. हमारी बल्लेबाजी अच्छी है. हमने आज एक कैच छोड़ा लेकिन क्षेत्ररक्षण भी शानदार है. पूरी टीम अच्छा खेल रही है. ’’ उन्होंने कहा, ‘‘यह एक मैच का मामला नहीं है. हमने एक के बाद तीन मैचों में ऐसा किया. हमें अच्छा प्रदर्शन जारी रखना होगा. ’’ धोनी ने अपने गेंदबाजों की तारीफ की.

 

उन्होंने कहा, ‘‘जब हम उपमहाद्वीप के बाहर कुछ मैच हार रहे थे तो हम बीच के ओवरों में विकेट नहीं ले पा रहे थे और यह चिंता का विषय था. अब हम नयी गेंद से विकेट ले रहे हैं और स्पिनर बीच के ओवरों में बल्लेबाजों पर अधिक दबाव बनाने में सक्षम हैं. ’’ आज के एकतरफा मैच के बारे में धोनी ने कहा, ‘‘हमने रणनीति बनायी थी और इन परिस्थितियों में उन पर अमल करना महत्वपूर्ण है. हमने विरोधी टीम को रन बनाने का मौका नहीं दिया. ’’

 

इस मैच में वापसी करने वाले भुवनेश्वर कुमार के प्रदर्शन पर उन्होंने कहा, ‘‘उसने अच्छी गेंदबाजी की. पहले पांच ओवर में उसने काफी अच्छी गेंदबाजी की. अधिक मैच खेलने पर हम पता कर सकते हैं कि वह डेथ ओवरों में कैसी गेंदबाजी करता है. ’’

Posted in: BusinessTagged in: cricket match in india parthindia match todayteam indiawine india matchdownload Read more... 0 comments

आय बढ़ने से स्टेट बैंक का मुनाफा 30 प्रतिशत बढ़ा, शेयर भी चढ़ा

2015-02-13 10:45:42 admin

देश के सबसे बड़े वाणिज्यिक बैंक भारतीय स्टेट बैंक का दिसंबर में समाप्त तीसरी तिमाही के दौरान शुद्ध लाभ 30 प्रतिशत उछलकर 2,910 करोड़ रुपये हो गया.

बैंक की संपत्ति गुणवत्ता में सुधार और ब्याज आय बढ़ने से बैंक का मुनाफा बढ़ा है. परिणाम से बैंक के शेयर मूल्य में भी उछाल आया है.

स्टेट बैंक ने एक वक्तव्य में कहा है कि पिछले साल इसी तिमाही में उसका शुद्ध लाभ 2,234 करोड़ रुपये रहा था.

चालू वित्त वर्ष की अक्तूबर से दिसंबर तिमाही में बैंक की शुद्ध ब्याज आय एक साल पहले की इसी अवधि के मुकाबले 9.20 प्रतिशत बढ़कर 13,777 करोड़ रुपये हो गई.

इस दौरान बैंक की गैर-निष्पादित राशि :एनपीए: उसकी कुल अग्रिम राशि के मुकाबले घटकर 4.90 प्रतिशत रह गई. पिछले साल इसी अवधि में यह अनुपात 5.73 प्रतिशत पर था. इस दौरान शुद्ध एनपीए 2.80 प्रतिशत रह गया.

बैंक ने कहा है कि आलोच्य तिमाही में फंसे कर्ज के लिये उसकी प्रावधान राशि पिछले साल के 4,149 करोड़ रपये से बढ़कर 5,235 करोड़ रपये हो गई. दिसंबर अंत तक बैंक की गैर-ब्याज आय भी 24.27 प्रतिशत बढ़कर 5,238 करोड़ रुपये हो गई.

तीसरी तिमाही में बैंक की कुल आय 43,784 करोड़ रुपये रही. पिछले साल इस दौरान यह 39,068 करोड़ रुपये रही थी.

एकीकृत आधार पर बैंक का शुद्ध लाभ आलोच्य तिमाही के दौरान 35 प्रतिशत बढ़कर 3,828 करोड़ रपये हो गया. एक साल पहले इसी अवधि में यह 2,839 करोड़ रुपये थी.

इस दौरान बैंक की कुल आय 64,605 करोड़ रपये हो गई. एक साल पहले इसी अवधि में यह 58,649 करोड़ रुपये थी.

स्टेट बैंक के पांच सहयोगी बैंक हैं. इनमें से स्टेट बैंक ऑफ बीकानेर एण्ड जयपुर, स्टेट बैंक ऑफ मैसूर और स्टेट बैंक ऑफ त्रावणकोर सूचीबद्ध इकाइयां हैं.

Posted in: Businesssbi-logo-----340__930332093 Read more... 0 comments

सहारा समूह माफी मांगे या हर्जाना दे: मिराक

2015-02-07 15:24:58 admin

कंपनी ने शनिवार को सहारा समूह से कहा है कि उसकी छवि धूमिल करने के लिये समूह माफी मांगे। ऐसा नहीं होने पर मिराक ने कानूनी कार्रवाई की धमकी दी है साथ ही अनुबंध की शर्तों का उल्लंघन करने पर 1.30  करोड़ डॉलर का हर्जाना मांगा है। मिराक कैपिटल के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सारांश शर्मा ने सहारा प्रमुख सुब्रत राय को भेजे पत्र में कहा क्षतिपूर्ति की राशि सहारा द्वारा जांच पड़ताल तथा इससे जुड़ी लागत के लिए दी गई 26  लाख डॉलर के अलावा होगी। शर्मा ने हालांकि,  यह पेशकश भी की है कि मिराक अभी भी सहारा के लिए 2.05  अरब डॉलर की सिंडिकेट ऋण व्यवस्था को आगे बढ़ा सकता है। सहारा को यह राशि अपने प्रमुख सुब्रत राय को तिहाड़ जेल से छुड़ाने के लिए चाहिए जहां वह लगभग एक साल से बंद हैं। मिराक ने शर्मा द्वारा राय को लिखा पत्र मीडिया को जारी करते हुये सहारा की विदेश स्थित तीनों परिसंपत्तियों की एकमुश्त खरीद का एक और विकल्प दिया है। तीसरे विकल्प के तौर पर अमरीकी कंपनी ने कहा है कि यदि सहारा औपचारिक तौर पर माफी मांगे और अपने आरोप वापस ले ले तो वह भारतीय समूह द्वारा दी गई 26  लाख डॉलर की राशि भी वापस कर देगा। पत्र पर सहारा की तरफ से तुरंत कोई टिप्पणी नहीं मिल पाई है। शर्मा ने कहा कि मिराक ने सात दिन पहले ही यह राशि (26 लाख डॉलर)  वापस करने की पेशकश की थी लेकिन सहारा ने जोर दिया था कि मिराक खर्च के लिए इसे अपने पास रखे।

Posted in: BusinessTagged in: Companyjailsahara pariwarSubrat roysahara Read more... 0 comments

कोल इंडिया के कर्मचारियों की हड़ताल दूसरे दिन सरकार से बातचीत के बाद समाप्त

2015-01-08 05:32:42 admin

नई दिल्ली: कोल इंडिया के कर्मचारियों की हड़ताल का आज दूसरा दिन था। शाम को सरकार से बातचीत के बाद कर्मचारी नेताओं ने हड़ताल समाप्ति की घोषणा की। ऊर्जा मंत्री पीयूष गोयल ने कर्मचारी नेताओं से बातचीत की और बताया कि सरकार एक समिति का गठन करेगी जो कर्मचारियों की समस्याओं पर गौर करेगी और सरकार को अपनी सिफारिशें देगी।

Coal-Miningकोयला मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि सरकार की निजीकरण की कोई योजना नहीं, कोल इंडिया के कर्मचारियों के हितों की रक्षा की जाएगी

मंगलवार दिन में सरकार और कर्मचारियों के बीच हुई बातचीत टूट गई थी। कर्मचारी यूनियन के मुताबिक, सरकार संकट का हल निकालने की दिशा में काम नहीं कर रही थी।

दरअसल, कल हुई बातचीत में सरकार की ओर से कोयला मंत्री शामिल नहीं हुए, लेकिन कोयला सचिव बातचीत में शामिल हुए थे, हालांकि दोनों पक्षों ने उम्मीद जताई है कि बातचीत जारी रहेगी।

कोल इंडिया दुनिया की सबसे बड़ी कोयला खनन कंपनी है और इसके लाखों कर्मचारियों के हड़ताल पर जाने से देश में बिजली संकट भी गहरा सकता है। देश के बिजली उत्पादन का एक बड़ा हिस्सा कोयले पर निर्भर करता है।

इंटक नेता एस क्यू ज़मां ने कहा, हमारा विरोध कोल इंडिया के पब्लिक सेक्टर कैरेक्टर को बदलने के लिए अध्यादेश लाने की सरकार की पहल के खिलाफ है।

हड़़ताल के पहले ही दिन इसका असर झारखंड की 100 से अधिक कोयला खदानों पर दिखा। छत्तीसगढ़ में 66 कोयला खदान बंद रहीं और महाराष्ट्र की 36 कोयला खदानों में काम ठप रहा।

इस हड़ताल का दायरा कितना बड़ा है इसका अंदाज़ा इस बात से लगाया जा सकता है कि कोल इंडिया दुनिया की सबसे बड़ी कोयला खनन कंपनी है। कोल इंडिया भारत में 81% कोयला उत्पादन करती है, और उसका भारत के कोयला बाज़ार पर 74% कब्ज़ा है। कंपनी कोयला से चलने वाले 86 थर्मल प्लांटों में 82 को कोयला सप्लाई करती है। उसके पास हर दिन औसतन क़रीब 15 लाख टन कोयला उत्पादन की क्षमता है यानी 5 दिन की हड़ताल चली तो 75 लाख टन कोयला का उत्पादन कम हो जाएगा।

संकट की वजह से सरकार पर दबाव बढ़ता जा रहा है, लेकिन कोयला मंत्री पूरे दिन कुछ भी खुलकर बोलने से बचते दिखे।

(इनपुट्स भाषा से भी)

Posted in: BusinessNational NewsCoal-Mining Read more... 0 comments

शेयर बाजार में आज ठोरासा उछाल, 8254 पर पहुंचा निफ्टी

2014-12-31 16:40:17 admin

मुंबई। वर्ष 2014 के आखिरी दिन भी बाजार की शुरुआत कल की ही तरह सपाट कारोबार के साथ हुई। विदेशी बाजारों से बेहद खराब संकेतों के बावजूद घरेलू बाजारों का ये रूख बेहतर ही कहा जा सकता है। इसके अलावा मिडकैप और स्मॉलकैप शेयरों में भी कारोबार का रुख सपाट ही बना हुआ है।

आज सुबह-सुबह बाजार खुलते ही बीएसई का 30 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 3.03 अंक यानि 0.01 फीसदी की बढ़त के साथ 27406 के स्तर पर कारोबार कर रहा है।जबकि एनएसई का 50 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स निफ्टी 6.15 अंक यानि 0.07 फीसदी चढ़कर 8254 के स्तर पर कारोबार कर रहा है।

एक्साइज ड्यूटी में छूट की अवधि ना बढ़ाए जाने की संभावित खबरों के मद्देनजर ऑटो शेयर करीब 1 फीसदी की गिरावट के साथ कारोबार कर रहे हैं। हालांकि कैपिटल गुड्स और कंज्यूमर ड्यूरेबल्स शेयरों में मामूली गिरावट देखी जा रही है। आईटी और टेक्नोलॉजी शेयर भी गिरावट दिखा रहे हैं और पावर शेयर कमजोर हैं। एफएमसीजी और हैल्थकेयर शेयर 0.3 फीसदी से ज्यादा की बढ़त दिखा रहे हैं।

निफ्टी के दिग्गज चढ़ने वाले शेयरों में एमएंडएम 1.7 फीसदी, बजाज ऑटो 1.63 फीसदी और मारुति 1.32 फीसदी की गिरावट के साथ कारोबार कर रहे हैं। हीरो मोटोकॉर्प में 1.16 फीसदी और एचसीएट टेक में 1.12 फीसदी की कमजोरी के साथ कारोबार हो रहा है।

बीएसई मिडकैप में पीएमसी फिनकॉर्प, अशोक लेलैंड, राजेश एक्सपोर्ट्स, अबान ऑफशोर और सनोफी इंडिया 5-1.28 फीसदी की तेजी के साथ कारोबार कर रहे हैं। जबकि गिरने वाले मिडकैप शेयरों में स्पाइस मोबिलिटी, शेरोन बायो मेडी और अतुल ऑटो 10.580-4.57 फीसदी की गिरावट के साथ कारोबार कर रहे हैं।sensex1

Posted in: BusinessTagged in: 2014HindiIndiasensexsensex1 Read more... 0 comments

मिडकैप में खरीदारी, सेंसेक्स-निफ्टी सुस्त

2014-12-24 05:33:32 admin

नई दिल्ली। बाजार में बेहद ही सुस्ती के साथ कारोबार देखने को मिल रहा है। सेंसेक्स और निफ्टी की चाल सुस्त नजर आ रही है। लेकिन मिडकैप और स्मॉलकैप शेयरों में थोड़ी खरीदारी जरूर देखने को मिल रही है। आईटी और ऑटो शेयरों में बिकवाली से बाजार पर दबाव नजर आ रहा है। वहीं बैंकिंग और रियल्टी शेयरों में खरीदारी आई है।

 

फिलहाल बीएसई का 30 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 16 अंकों की मामूली बढ़त के साथ 27523 के स्तर पर कारोबार कर रहा है। वहीं एनएसई का 50 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स निफ्टी 5 अंक की हल्की तेजी के साथ 8272 के स्तर पर कारोबार कर रहा है। बाजार में कारोबार के इस दौरान डॉ रेड्डीज, जिंदल स्टील, एचसीएल टेक, सन फार्मा, पावर ग्रिड, टेक महिंद्रा, आईडीएफसी, टाटा स्टील और टीसीएस जैसे दिग्गज शेयरों में 1-0.5 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है।

 

हालांकि अल्ट्राटेक सीमेंट, कोल इंडिया, एसीसी, अंबुजा सीमेंट, टाटा पावर, जी एंटरटेनमेंट, एचडीएफसी, सिप्ला, कोटक महिंद्रा बैंक और इंडसइंड बैंक जैसे दिग्गज शेयरों में 2.7-0.5 फीसदी की मजबूती आई है। मिडकैप शेयरों में इंडिया सीमेंट, सन टीवी, सीमेंस, आईएफसीआई, हिंदुस्तान जिंक, सीईएससी, गोदरेज इंडस्ट्रीज और एमआरएफ में 1.25-0.5 फीसदी की मजबूती दिख रही है।

Posted in: BusinessTagged in: sensexsensex-sustt630 Read more... 0 comments

पीएफ पर अब मिलेगा 8.75 प्रतिशत ब्याज

2014-12-20 06:19:09 admin

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) के पांच करोड़ से अधिक अंशधारकों को मौजूदा वित्त वर्ष के लिए अपनी जमाओं पर 8.75 प्रतिशत ब्याज मिलेगा। सूत्रों ने बताया कि वित्त मंत्रालय ने 2014-15 के लिए ब्याज दर को मंजूरी दे दी है। ईपीएफओ के केंद्रीय न्यासी बोर्ड ने ब्याज दर को इस स्तर पर बनाये रखने का फैसला किया था। प्रक्रिया के तहत ईपीएफओ न्यासी बोर्ड के फैसले का कार्यान्वयन वित्त मंत्रालय की मंजूरी के बाद होता है। वित्त मंत्रालय की मंजूरी के बाद इस फैसले को श्रम मंत्रालय व आयकर विभाग अधिसूचित करेगा। -

Posted in: Businessepf~19~12~2014~1418989169_storyimage Read more... 0 comments

सबसे बड़ा कर सुधार है जीएसटी: जेटली

2014-12-20 06:17:01 admin

वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) को आजादी के बाद कर व्यवस्था में सबसे बड़ा सुधार बताते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने शुक्रवार को कहा कि इसके लागू होने पर अप्रैल, 2016 से प्रवेश शुल्क सहित सभी अप्रत्यक्ष कर इसमें सम्माहित हो जाएंगे और पूरे देश में वस्तुओं व सेवाओं का निर्बाध प्रवाह सुनिश्चित होगा। उन्होंने कहा कि जीएसटी केंद्र व राज्य, दोनों के लिए फायदे का सौदा है और राज्यों को दूसरे राज्य से आने वाली वस्तुओं के प्रवेश पर शुल्क के हटने से होने वाले नुकसान की भरपाई के लिए दो वर्ष तक एक प्रतिशत अतिरिक्त कर लगाने की छूट होगी। गौरतलब है कि राज्यों के वित्त मंत्रियों के साथ जेटली की पिछले दिनों हुई कई लंबी बैठकों के बाद जीएसटी पर सहमति बन सकी है। जीएसटी लागू करने के लिए लोकसभा में 122वां संविधान संशोधन पेश करने के बाद जेटली ने संवाददाताओं से कहा, जीएसटी लागू होने से पूरे देश में वस्तुओं व सेवाओं का निर्बाध स्थानांतरण सुनिश्चित हो सकेगा। इसमें इंस्पेक्टर राज की बाधा नहीं होगी और कर के उपर कर भी नहीं लगेगा। 

Posted in: Businessarun-jaitley~19~12~2014~1418999247_storyimage Read more... 0 comments

निफ्टी 8050 के नीचे, सेंसेक्स की चाल सुस्त

2014-12-17 05:28:38 admin

नई दिल्ली। बाजार में गिरावट का सिलसिला आज भी बरकरार है। निफ्टी 8050 के नीचे आ गया है, तो सेंसेक्स में 50 अंकों की गिरावट देखने को मिल रही है। फार्मा, बैंकिंग, कंज्यूमर ड्युरेबल्स और ऑटो शेयरों में बिकवाली से बाजार पर दबाव बना है। लेकिन मेटल, ऑयल एंड गैस और आईटी शेयरों में खरीदारी नजर आ रही है। वहीं मिडकैप और स्मॉलकैप शेयरों की चाल सुस्त है।

 

फिलहाल बीएसई का 30 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 25 अंकों की गिरावट के साथ 26756 के स्तर पर कारोबार कर रहा है। वहीं एनएसई का 50 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स निफ्टी 21.5 अंक यानि 0.25 फीसदी गिरकर 8046 के स्तर पर कारोबार कर रहा है।

 

बाजार में कारोबार के इस दौरान हिंडाल्को, डॉ रेड्डीज, एचसीएल टेक, एसबीआई, एमएंडएम और सिप्ला जैसे दिग्गज शेयरों में 2.4-1.6 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है। हालांकि टाटा स्टील, सेसा स्टरलाइट, अल्ट्राटेक सीमेंट, टीसीएस, कोल इंडिया और ओएनजीसी जैसे दिग्गज शेयरों में 1.75-0.75 फीसदी की मजबूती आई है।

 

 

Posted in: Businesssensex-downw630 Read more... 0 comments

सोमवार रात 12 बजे से 2-2 रुपये सस्ता मिलेगा डीजल और पेट्रोल

2014-12-15 15:03:19 admin

आम आदमी के पास एक बार फिर खुश होने की वाजिब वजह है. सोमवार देर रात 12 बजे से पेट्रोल और डीजल के दाम में 2-2 रुपये कम हो जाएंगे. तेल की घटी कीमतें दिल्ली के अलावा बाकी राज्यों में भी लागू होंगी. तेल की कीमतों पर तेल कंपनियों को अधिकार देने के बाद इस साल अब तक आठवीं बार तेल की कीमतों में कमी आई है.

कीमतों में कमी के बाद दिल्ली में पेट्रोल की कीमत 63 रुपये से घटकर 61 रुपये और डीजल की कीमत 52 रुपये से घटकर 50 रुपये हो जाएगी. इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन ने सोमवार को इस बाबत ऐलान किया. इससे पहले 1 दिसंबर 2014 को पेट्रोल की कीमत में 91 पैसे और डीजल के दाम में 84 पैसे प्रति लीटर की कमी आई थी.

पेट्रोल और डीजल की कीमतों में कमी इंटरनेशनल बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट की वजह से हुई है. जानकारों का मानना है कि आगे भी तेल की कीमतों में कमी आएगी.

Posted in: BusinessTagged in: Indialow pricepetrolpetrol.. Read more... 0 comments

अगले साल महंगा होगा रेल सफर!

2014-12-15 03:50:34 admin

नई दिल्ली 

अगले साल के शुरू में रेल यात्रा महंगी हो सकती है। माना जा रहा है कि फरवरी में पेश होने वाले रेल बजट में ऊर्जा की बढ़ती लागत का बोझ यात्रियों पर डालने के लिए रेल किरायों में बढ़ोतरी का प्रस्ताव किया जा सकता है। रेल मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि ईंधन समायोजन से संबंधित किराया संशोधन दिसंबर में होना है, जिसे फरवरी में बजट में प्रभावी किया जा सकता है। 



अधिकारी ने कहा कि हाल के महीनों में ऊर्जा की लागत चार प्रतिशत से अधिक बढ़ी है। रेलवे की घोषित नीति के अनुसार ईंधन और ऊर्जा की लागत से संबंधित यात्री किराए और मालभाड़े में साल में दो बार संशोधन किया जाना है। अंतिम बार संशोधन जून में किया गया था। उस समय यात्री किरायों में 4.2 प्रतिशत और माल ढुलाई भाड़े में 1.4 फीसदी की बढ़ोतरी की गई थी। 



किरायों में बढ़ोतरी से पहले… 

 



हाल में किरायों में बढ़ोतरी का संकेत देते रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने एक कार्यक्रम में कहा था कि कुछ बोझ तो लोगों को उठाना होगा। रेलवे के बढ़ते खर्चों को पूरा करने के लिए किरायों में बढ़ोतरी की संभावना के बारे में पूछे जाने पर प्रभु ने इसकी संभावना से इनकार नहीं किया था। सुधार समर्थक माने जाने वाले प्रभु ने कहा था कि किरायों में बढ़ोतरी से पहले यात्री सेवाओं में सुधार किया जाना चाहिए। 



सुरक्षा के साथ समझौता नहीं किया जा सकता, भारी निवेश की जरूरत है। इसका कुछ बोझ तो लोगों को उठाना होगा। उन्होंने कहा था कि रेलवे को बड़े निवेश की जरूरत है। निवेश के लिए कोई कोष नहीं है। घोषित परियोजनाओं को पूरा करने के लिए 6 से 8 लाख करोड़ रुपये की जरूरत है। पदभार संभालने के बाद प्रभु ने रेलवे को पटरी पर लाने के लिए कई कदम उठाए हैं। 

Posted in: Businessrail Read more... 0 comments

महंगाई दर फिर घटी, 4.38 प्रतिशत पर पहुंची

2014-12-15 03:48:25 admin

खाने-पीने के सामान की महंगाई घटने से नवंबर में खुदरा मुद्रास्फीति 4.38 प्रतिशत पर आ गई है। यह लगातार पांचवां महीना है जबकि खुदरा मुद्रास्फीति घटी है। इससे रिजर्व बैंक द्वारा आने वाले समय में ब्याज दरों में कटौती की संभावना बढ़ सकती है। सरकार ने जनवरी, 2012 में नयी सीरीज के आंकड़ों की गणना की शुरुआत की थी। उसके बाद से यह उपभोक्ता मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति का सबसे निचला स्तर है।
अक्‍टूबर, 2014 में यह 5.52 प्रतिशत पर थी। नवंबर, 2013 में खुदरा मुद्रास्फीति 11.16 प्रतिशत के ऊपरी पायदान पर थी।
इस बार नवंबर में खाद्य मुद्रास्फीति घटकर 3.14 प्रतिशत पर आ गई, जो इससे पिछले महीने 5.59 प्रतिशत पर थी। सांख्यिकी और कार्यक्रम क्रियान्वयन मंत्रालय की ओर से शुक्रवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक पिछले महीने में सब्जियां के खुदरा दाम सालाना आधार 10.9 प्रतिशत घटे। अक्‍टूबर में सब्जियों की कीमतें सालाना आधार पर 1.45 प्रतिशत घटी थीं। वहीं नवंबर में फलों की मूल्यवृद्धि घटकर 13.74 प्रतिशत रह गई, जो अक्‍टूबर में 17.49 प्रतिशत थी।

Posted in: BusinessTagged in: Indiamehgaimehgai Read more... 0 comments

रिलायंस ने मेक्सिको में तेल एवं गैस उत्खनन का समझौता किया

2014-12-06 06:16:06 admin

बिजनेस डेस्क: रिलायंस इंडस्ट्रीज ने मेक्सिको की राष्ट्रीय तेल कंपनी पेट्रोलियोस मेक्सिकेनोस (पेमेक्स) के साथ तेल उत्खनन से लेकर रिफाइनिंग के समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं। कंपनी देश में हुई मायूसी के बाद अब विदेशों में संभावनाएं तलाश रही है।

कंपनी के बयान में कहा गया 'आरआईएल और पेमेक्स मेक्सिको में तेल और गैस उत्खनन कारोबार की संभावना और इंटरनैशनल बाजारों के लिए मूल्यवर्द्धित उत्पादों के मौके तलाशेगी।' विश्व के 10वें सबसे बड़े कच्चे तेल उत्पादक मेक्सिको ने पेमेक्स के दशकों लंबे एकाधिकार खत्म करते हुए क्षेत्र को खोलने के साथ ही यह सौदा हुआ है। सरकारी स्वामित्व वाली कंपनी तेल एवं प्राकृतिक गैस निगम (ओएनजीसी) ने इससे पहले मेक्सिको की कंपनी के साथ समझौते पर हस्ताक्षर किए थे। विश्व की सबसे बडी रिफाइनरी वाली कंपनी आरआईएल ने कहा कि उसका पेमेक्स के साथ समझौता कंपनी की ऐसे क्षेत्रों में अंतरराष्ट्रीय परिसंपत्ति में विस्तार की रणनीति के अनुरूप है जहां आकर्षक प्रतिस्पर्धी मौके हैं। आरआईएल के तेल एवं गैस कारोबार प्रमुख पी.एम.एस. प्रसाद और पेमेक्स के मुख्य कार्यकारी एमिलियो लोजोया ने न्यूयार्क में इस समझौते पर हस्ताक्षर किए। आरआईएल ने 1990 के दशक में गुजरात के जामनगर में देश की सबसे बड़ी रिफाइनरी की स्थापना की और इसके बाद तेल एवं गैस उत्खनन में विस्तार किया।

——————————-

भारत ने विनिर्माण, सेवा क्षेत्र में नवंबर में चीन को पछाड़ा

बिजनेस डेस्क: भारत ने नवंबर में विनिर्माण और सेवा क्षेत्र की वृद्धि दर में चीन को पीछे छोड दिया। हालांकि, उभरते बाजार के उत्पादन में लगातार दूसरे महीने गिरावट आई और यह छह माह के निचले स्तर पर आ गया। यह बात एचएसबीसी के सर्वेक्षण में कही गई। एचएसबीसी के मासिक पीएमआई सर्वेक्षण से मिले इस संकेतक के मुताबिक एचएसबीसी उभरते बाजार का सूचकांक लगातार दूसरे माह घटकर 51.2 पर आ गया जिससे इस क्षेत्र में मई के बाद सबसे कम वृद्धि का संकेत मिलता है। एचएसबीसी ने कहा कि ईएमआई अपने दीर्घकालिक रुझान 53.7 के स्तर से कम रहा क्योंकि उभरते बाजारों में विनिर्माण और सेवा प्रदाताओं दोनों क्षेत्र में नवंबर में नरम और समान उत्पादन वृद्धि दर्ज की गई। एचएसबीसी ने एक रपट में कहा 'नवंबर 2005 में शुरू होने के बाद सूचकांक के लिए 2014 औसतन न्यूनतम स्तर रहेगा।' चार सबसे बड़ी उभरती अर्थव्यवस्थाओं से स्पष्ट है कि नवंबर में परस्पर विरोधी रुझान रहा। चीन ने लगातार सातवें महीने वृद्धि दर्ज की जबकि भारत ने जून से अब तक की सबसे अधिक तेजी दर्ज की।

Posted in: BusinessTagged in: reliance indiarelince Read more... 0 comments

सेंसेक्स मामूली बढ़त के साथ 50 अंक ऊपर चढ़ा

2014-12-05 06:49:25 admin

नई दिल्ली। बाजार में मामूली बढ़त देखने को मिल रही है। सेंसेक्स और निफ्टी करीब 0.2 फीसदी की बढ़त के साथ कारोबार कर रहे हैं। लेकिन दिग्गज शेयरों के मुकाबले मिडकैप और स्मॉलकैप शेयरों में ज्यादा खरीदारी नजर आ रही है। वहीं मेटल, ऑयल एंड गैस और कैपिटल गुड्स शेयरों में खरीदारी से बाजार को सहारा मिला है। हालांकि आईटी शेयरों में मामूली बिकवाली नजर आ रही है।

 

फिलहाल बीएसई का 30 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 58 अंक यानि 0.2 फीसदी की बढ़त के साथ 28621 के स्तर पर कारोबार कर रहा है। वहीं एनएसई का 50 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स निफ्टी 13 अंक यानि 0.15 फीसदी चढ़कर 8577 के स्तर पर कारोबार कर रहा है। बाजार में कारोबार के इस दौरान दिग्गज शेयरों में भारती एयरटेल में 1.5 फीसदी, गेल 1.5 फीसदी, कोटक महिंद्रा बैंक 1.1 फीसदी, सेसा स्टरलाइट 1 फीसदी, एनएमडीसी 0.9 फीसदी, बीएचईएल 0.9 फीसदी और कोल इंडिया 0.9 फीसदी तक उछले हैं।

 

हालांकि दिग्गज शेयरों में विप्रो 0.8 फीसदी, केर्न इंडिया 0.75 फीसदी, एचयूएल 0.8 फीसदी, सिप्ला 0.6 फीसदी, टाटा मोटर्स 0.7 फीसदी और टाटा पावर 0.3 फीसदी तक गिरे हैं। मिडकैप शेयरों में पिपावाव डिफेंस 8.1 फीसदी, अतुल 6.2 फीसदी, एनबीसीसी 3.1 फीसदी, एबीजी शिपयार्ड 3.1 फीसदी और अजंता फार्मा 2.7 फीसदी तक चढ़े हैं। स्मॉलकैप शेयरों में मैंगलोर केमिकल्स 12 फीसदी, एसक्यूएस इंडिया 10.6 फीसदी, सारदा एनर्जी 9.4 फीसदी, आर सिस्टम्स 7.8 फीसदी और वारेन टी 7.7 फीसदी तक उछले हैं।

Posted in: BusinessTagged in: AsiahighIndialowmumbaisensexshare marketsensex-chada630 Read more... 0 comments

आइआइटी के 4 छात्रों ने ठुकराई 1 करोड़ की नौकरी, जाने क्‍यों

2014-12-05 05:45:21 admin

आइआइटी कानपुर के मेधावी छात्र छात्राओं ने विदेशी कंपनियों के एक करोड़ रुपये से भी अधिक के पैकेज को ठुकरा दिया है। नौकरी ठुकराने वालों में तीन छात्र व एक छात्रा शामिल है। इनमें से दो छात्र ने उच्च शिक्षा के लिए विदेशी व नामचीन विश्वविद्यालयों में चयन होने पर नौकरी की जगह पढ़ाई को तरजीह दी है। जबकि एक छात्र और एक छात्रा ने अपनी प्रोफेशनल जरूरतों के अनुरूप नौकरी करने को लेकर इस ऑफर को ठुकरा दिया।

आइआइटी के एक अधिकारी ने बताया कि छात्र छात्राएं कई बार उच्च शिक्षा को प्राथमिकता देने के चलते ऑफर ठुकराते रहे हैं। लेकिन इतने बड़े पैकेज का ऑफर पहली बार ठुकराया गया है। वहीं प्लेसमेंट अधिकारी प्रोफेसर दीपू फिलिप ने छात्रों का नाम न बताने के साथ इस मसले पर कोई टिप्पणी करने से इन्कार कर दिया। जिन छात्र छात्राओं का चयन एक करोड़ रुपये के पैकेज में किया गया था उनमें से एक छात्र और एक छात्रा ने दूसरी कंपनी की ओर से ऑफर किए गए 50 लाख रुपये के पैकेज को इसलिए स्वीकार कर लिया क्योंकि वे इसी तरह की नौकरी के पक्ष में थे। वहीं दो अन्य छात्रों ने आगे की पढ़ाई व शोध को तरजीह देते हुए पैकेज ठुकरा दिया। आइआइटी कानपुर में इस समय कैंपस प्लेसमेंट के लिए ढाई सौ कंपनियां पहुंची हैं। ये कंपनियां यहां पर अध्ययनरत 1200 छात्रों का चयन करने के लिए लगातार साक्षात्कार कर रही हैं। पिछले चार दिन से चल रहे कैंपस प्लेसमेंट के दौरान करीब साढ़े तीन सौ छात्रों का चयन किया जा चुका है। प्लेसमेंट के लिए आने वाली कंपनियों में सेल, एनटीपीसी, भेल, एचओएल समेत कई सरकारी कंपनियों के अलावा इंफोसिस, फेसबुक, एचसीएल, आइबीएम, ओरेकल, सोनी, सैमसंग, टाटा मोटर्स, आइसीसी व फ्लिपकार्ट शामिल हैं।

बीएयचू छात्र को 2.03 करोड़ की नौकरी

वाराणसी, जागरण संवाददाता। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (काशी ङ्क्षहदू विवि) के एक छात्र को पढ़ाई खत्म होने से पहले ही बहुराष्ट्रीय कंपनी ओरेकल ने सालाना दो करोड़ रुपये से अधिक की नौकरी दी है। एक अन्य छात्र को 'गूगल माउंटेन व्यू' ने 1.63 करोड़ के वार्षिक पैकेज का ऑफर दिया है। दो दर्जन बहुराष्ट्रीय कंपनियों के अलावा सात भारतीय कंपनियों ने भी बीएचयू आइआइटी के 168 छात्रों को लाखों के पैकेज पर नौकरी दी है।

आइआइटी बीएचयू में नौकरियां बांटने का यह सिलसिला 21 दिसंबर तक चलेगा। आइआइटी-बीएचयू के प्रशिक्षण एवं नियुक्ति प्रकोष्ठ के अध्यक्ष प्रो. एके अग्रवाल के अनुसार, माइक्रोसाफ्ट रेडमांड ने 80.29 लाख, एपिक सिस्टम ने 73.34 लाख, वक्र्स एप्लीकेशंस ने 33.29 लाख रुपये, गोल्डमैन सैश व अमेजन ने 30-30 लाख रुपये के अलावा दर्जनों विदेशी कंपनियों ने यहां के छात्रों पर भरोसा जताया है। वहीं देशी कंपनियों में ङ्क्षहदुस्तान यूनिलिवर ने सबसे ज्यादा 22 लाख की नौकरी आफर की है।

Posted in: BusinessTagged in: googleiit studentsIndiakanpur iit universitypackageIIT Read more... 0 comments

माल्या नहीं होंगे किंगफिशर के MD रि-अप्वाइंट

2014-12-02 06:02:01 admin

किंगफिशर एयरलाइंस ने विजय माल्या को कंपनी का मैनेजिंग डायरेक्टर रि-अपाइंट करने की इजाजत मांगी थी, जिसे सरकार ने खारिज कर दिया। वहीं UB ग्रुप पर शेयरहोल्डर्स ऐक्टिविज्म भारी पड़ रहा है। ग्रुप के चेयरमैन विजय माल्या ने ग्रुप की कंपनी मैंगलोर केमिकल्स एंड फर्टिलाइजर्स (MCFL) के डायरेक्टर की पोस्ट से इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने इस्तीफा देने की कोई वजह नहीं बताई है।



कंपनी ने स्टॉक एक्सचेंजों को दी सूचना में कहा है, 'बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स के डायरेक्टर डॉक्टर विजय माल्या ने तत्काल प्रभाव से इस्तीफा दे दिया है।' उनके इस्तीफा देने की कोई वजह नहीं बताई गई है। उन्होंने यह फैसला यूनाइटेड स्पिरिट्स के माइनॉरिटी शेयरहोल्डर्स की तरफ से 12 में से 9 प्रस्ताव को खारिज कर दिए जाने के बाद आया है। इन प्रस्तावों में पुराने प्रमोटर माल्या से संबंधित कंपनियों के साथ संबंध बनाए रखने से जुड़ा प्रस्ताव भी है।

 

 

माल्या के इस्तीफे से पहले MCFL के शेयरों की कीमत में 15 पर्सेंट का तेज उछाल आया था। माल्या इससे पहले कंपनी पर कंट्रोल हासिल करने की दो बार कोशिश कर चुके थे और दोनों बार नाकामयाब रहे थे। माल्या ने दीपक फर्टिलाइजर्स एंड पेट्रोकेमिकल्स के ओपन ऑफर को नाकामयाब बनाने के लिए कोलकाता के इंडस्ट्रियलिस्ट सरोज कुमार पोद्दार के साथ हाथ मिलाया था। दीपक कंपनी में अपना स्टेक लगभग 32 पर्सेंट करने में कामयाब रही है। इसमें माल्या और पोद्दार का कुल 38 पर्सेंट स्टेक है।



MCFL के बोर्ड में पोद्दार के एडवेंट्ज ग्रुप को शामिल करने के लिए उसको रिस्ट्रक्चर किया जा रहा है। MCFL का शेयर अनाउंसमेंट के बाद बीएसई पर 15.3 पर्सेंट चढ़कर 94.05 रुपये पर पहुंच गया। लेकिन बाद में लगभग एक तिहाई बढ़त खोते हुए 89.85 रुपये पर बंद हुआ। यह शुक्रवार के बंद भाव से 8.25 रुपये यानी 10.11 पर्सेंट ऊपर है।

Posted in: BusinessTagged in: bankIndiakingfisher airlinesLoanvijay mallyamalya Read more... 0 comments

CID के सेट पर अजय देगवन का 'एक्शन-जैक्सन

2014-12-01 05:21:41 admin

'एक्शन-जैक्सन' के प्रमोशन के लिए अजय देवगन मशहूर सीरियल 'CID'  के सेट पर पहुंचे और यहां भी एक्शन में ही नजर आए. 'CID' के स्पेशल एपिसोड के शूट के दौरान अजय भी 'CID' टीम के साथ क्रिमिनल्स को पकड़ते दिखाई दिए. प्रभुदेवा के डायरेक्शन में बनी 'एक्शन-जैक्सन' 5 दिसंबर को रिलीज होने जा रही है. फिल्म में अजय देवगन तीन हीरोइनों के साथ दिखाई देंगे. 

'एक्शन-जैक्सन' के लिए अजय देवगन ने 17 किलो वजन घटाया है. इसमें अजय देवगन तलवारबाजी करते भी नजर आएंगे. अजय से पहले सलमान खान 'CID' के सेट पर अपनी फिल्म 'किक' का प्रमोशन करने आए थे. 'किक' भारत में 232 करोड़ रुपये का बिजनेस किया था.  

 
 
 

Posted in: Businessajay-cid Read more... 0 comments

पेट्रोल 91 पैसे तो डीजल 84 पैसे प्रति लीटर हुआ सस्ता

2014-12-01 04:53:31 admin

नई दिल्ली। अंतरराष्ट्रीय बाजार में लगातार घटते कच्चे तेल के दामों का फायदा घरेलू ग्राहकों को मिलना बदस्तूर जारी है। रविवार आधी रात से पेट्रोल और डीजल के दामों में एक बार फिर कटौती हो गई है। पेट्रोल के दामों में 91 पैसे और डीजल की कीमत में 84 पैसे प्रति लीटर की कमी हुई है। इस साल अगस्त के बाद पेट्रोल के दामों में लगातार सातवीं बार और डीजल के दामों में लगातार तीसरी बार कमी हुई है।

दिल्ली में पेट्रोल की नई कीमत 63.33 रुपये और डीजल की 52.51 रुपये प्रति लीटर हो गई है। अलग-अलग राज्यों में स्थानीय करों और वैट के चलते नई खुदरा कीमत अलग-अलग होगी। तेल उत्पादक देशों के संगठन ओपेक ने बीते सप्ताह कच्चे तेल (क्रूड) के उत्पादन में कटौती करने से इन्कार कर दिया था। इससे डीजल और पेट्रोल की कीमत कम होने का रास्ता साफ हो गया था। ब्रेंट क्रूड की कीमत चार साल में पहली बार सबसे तेज गिरावट के साथ हाल ही में 71.25 डॉलर प्रति बैरल के स्तर तक पहुंच गई थीं। जानकारों का मानना है कि आगे भी तेल कीमतों में गिरावट का दौर बना रह सकता है।

ओपेक में गल्फ प्रड्यूसरों सऊदी अरब, कुवैत, कतर और संयुक्त अरब अमीरात की गुरुवार को ऑस्टि्रया में हुई बैठक के दौरान उत्पादन कटौती के संबंध में सहमति नहीं बन पाई थी। इसके बाद अंतरराष्ट्रीय बाजारों में ब्रेंट क्रूड के दाम छह डॉलर प्रति बैरल से भी ज्यादा लुढ़क गए थे। यूएस क्रूड में भी गिरावट आई थी। तभी साफ हो गया था कि पेट्रोल और डीजल के दामों में कमी होगी। भारत अपनी जरूरत का करीब 80 फीसद कच्चा तेल आयात करता है।

तेल की कीमत कम होने का असर महंगाई की दर पर भी होगा। साथ ही तेल आयात के बिल में कमी से राजकोषीय और चालू खाते के घाटे की स्थिति में भी सुधार होगा। तेल खपत के मामले में भारत दुनिया का चौथा देश है। यहां हर साल 145 अरब डॉलर यानी करीब 9,000 अरब रुपये का करीब 19 करोड़ टन कच्चा तेल आयात किया जाता है। तेल की कीमत में कमी होने से सरकार को 4,000 करोड़ रुपये की बचत होगी।
—-

पेट्रोल में कमी 
राज्य , पुराने मूल्य , नए मूल्य , कमी
दिल्ली , 64.24 , 63.33 , 0.91 
कोलकाता , 71.68 , 70.73 , 0.95
मुंबई , 71.91 , 70.95 , 0.96
चेन्नई , 67.01 , 66.05 , 0.96
—-

डीजल में कमी-
राज्य , पुराने मूल्य , नए मूल्य , कमी
दिल्ली , 53.35 , 52.51 , 0.84 
कोलकाता , 57.95 , 57.08 , 0.87
मुंबई , 61.04 , 60.11 , 0.93
चेन्नई , 56.84 , 55.93 , 0.91
(दरें रुपये प्रति लीटर में)

Posted in: Businesspetrol pump Read more... 0 comments




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


7 − = two

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com