Home » National News » नीतीश कुमार फिर बनेंगे बिहार के मुख्यमंत्री, 22 फरवरी को लेंगे शपथ

बिहार के मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी के इस्तीफे के बाद राज्यपाल केसरीनाथ त्रिपाठी ने पूर्व मुख्यमंत्री और जदयू विधायक दल के नेता नीतीश कुमार को राजभवन बुलाकर मुख्यमंत्री बनने का न्योता दिया है। खबर के मुताबिक कुमार 22 फरवरी को मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे।

नीतीश ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि महामहिम राज्यपाल ने हमारे दावे को स्वीकार Nitish Kumarकरते हुए मुझे सरकार बनाने के लिए आमंत्रित किया है। उन्होंने बताया कि वह रविवार की शाम 5 बजे मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे। कुमार ने बताया कि उन्हें विश्वासमत हासिल करने के लिए तीन सप्ताह का समय दिया है।

नीतीश ने अमर्त्य सेन द्वारा नालंदा विश्वविद्यालय से खुद को अलग करने के निर्णय पर दुख जताते हुए कहा कि वह इस मामले की पूरी जानकारी लेने के बाद उनसे इस संस्थान से जुड़े रहने का आग्रह करेंगे।

सूत्रों द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक, नीतीश मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के 24 घंटों के भीतर भी विश्वास मत हासिल कर सकते हैं, हालांकि मुख्यमंत्री पद की शपथ से पहले इस मामले की प्रासंगिकता नगण्य है।

इसके साथ ही बिहार में नीतीश की दूसरी पारी की शुरुआत होने जा रही है। इससे पहले विश्वासमत हासिल करने से पहले ही मांझी ने इस्तीफा देने का फैसला किया जिससे नीतीश की राह आसान हो गई।

मांझी सरकार में बने रहने के लिए जरूरी विधायक जुटाने में सफल नहीं हो पा सके। नीतीश के साथ राज्यपाल से मिलने के लिए रामचंद्र पुर्वे और सदानंद सिंह भी पहुंचे थे।

नीतीश के मंत्रिमंडल के बारे अभी से कयासबाजी शुरू हो गई है और अभी यह तय नहीं पाया है कि मंत्रिमंडल में सिर्फ जदयू के विधायक होंगे,या फिर राजद और कांग्रेस के विधायक भी होंगे।

नीतीश जुगाड़ तकनीक के माहिर खिलाड़ी : भाजपा

नीतीश द्वारा सरकार बनाने के लिए जरूरी विधायक जुटाने के बाद भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता और उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने उन्हें जुगाड़ तकनीक से सरकार बनाने का माहिर खिलाड़ी बताते हुए कहा कि इतिहास में शायद यह पहली घटना है, जब एक ही पार्टी के दो लोगों के बीच सत्ता संघर्ष हुआ है।

इससे पहले 'जुगाड़' शब्द का इस्तेमाल उन्हीं की पार्टी के नेता नंदकिशोर यादव ने किया। मांझी के इस्तीफा देने के बाद उन्होंने पत्रकारों से कहा, ''मांझी बहुमत का जुगाड़ नहीं कर पाए, इसलिए उन्होंने इस्तीफा दे दिया।''

'जुगाड़' शब्द पर चुटकी लेते हुए नीतीश कुमार ने कहा कि नंदकिशोर यादव के बयान से स्पष्ट है कि मांझी जुगाड़ में लगे थे और भाजपा की मदद के बावजूद जुगाड़ टेक्नोलॉजी में फेल हो गए।

भाजपा नेता मोदी ने शुक्रवार को एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि इस सत्ता संघर्ष के लिए नीतीश कुमार जिम्मेदार हैं। उन्होंने सत्ता में आने के लिए यह कुचक्र किया। 

मोदी ने कहा, ''आठ महीने पूर्व जिस मांझी को महिमामंडित कर मुख्यमंत्री बनाया गया था, आखिर क्या कारण है कि उन्हें अपमानित कर मुख्यमंत्री पद से हटाने की स्थिति आ गई।''

उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार कोई पहली बार इस्तीफा देकर माफी नहीं मांग रहे हैं, इसके पहले भी चार बार इस्तीफा देकर माफी मांग चुके हैं।

मोदी ने नीतीश कुमार से मुख्यमंत्री मांझी द्वारा लगाए गए सभी आरोपों के जवाब देने की मांग करते हुए कहा कि नीतीश क्या लालू और कांग्रेस से गठबंधन करने के लिए भी बिहार की जनता से माफी मांगेंगे।

मोदी ने यह भी कहा कि नीतीश को मांझी की गलतियों को सार्वजनिक करना चाहिए।

उन्होंने एक बार फिर दोहराया कि भाजपा ने एक महादलित मुख्यमंत्री के अपमान का बदला लेने के लिए सदन में मांझी का समर्थन करने का फैसला किया था। सरकार में शामिल होने का भाजपा का कोई इरादा नहीं था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


five + = 9

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com