Home » Business » सहारा समूह माफी मांगे या हर्जाना दे: मिराक

कंपनी ने शनिवार को सहारा समूह से कहा है कि उसकी छवि धूमिल करने के लिये समूह माफी मांगे। ऐसा नहीं होने पर मिराक ने कानूनी कार्रवाई की धमकी दी है साथ ही अनुबंध की शर्तों का उल्लंघन करने पर 1.30  करोड़ डॉलर का हर्जाना मांगा है। मिराक कैपिटल के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सारांश शर्मा ने सहारा प्रमुख सुब्रत राय को भेजे पत्र में कहा क्षतिपूर्ति की राशि सहारा द्वारा जांच पड़ताल तथा इससे जुड़ी लागत के लिए दी गई 26  लाख डॉलर के अलावा होगी। शर्मा ने हालांकि,  यह पेशकश भी की है कि मिराक अभी भी सहारा के लिए 2.05  अरब डॉलर की सिंडिकेट ऋण व्यवस्था को आगे बढ़ा सकता है। सहारा को यह राशि अपने प्रमुख सुब्रत राय को तिहाड़ जेल से छुड़ाने के लिए चाहिए जहां वह लगभग एक साल से बंद हैं। मिराक ने शर्मा द्वारा राय को लिखा पत्र मीडिया को जारी करते हुये सहारा की विदेश स्थित तीनों परिसंपत्तियों की एकमुश्त खरीद का एक और विकल्प दिया है। तीसरे विकल्प के तौर पर अमरीकी कंपनी ने कहा है कि यदि सहारा औपचारिक तौर पर माफी मांगे और अपने आरोप वापस ले ले तो वह भारतीय समूह द्वारा दी गई 26  लाख डॉलर की राशि भी वापस कर देगा। पत्र पर सहारा की तरफ से तुरंत कोई टिप्पणी नहीं मिल पाई है। शर्मा ने कहा कि मिराक ने सात दिन पहले ही यह राशि (26 लाख डॉलर)  वापस करने की पेशकश की थी लेकिन सहारा ने जोर दिया था कि मिराक खर्च के लिए इसे अपने पास रखे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


two × = 14

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com