Home » National News » मोदी का अमेरिका को न्योता, ओबामा का खरबों का वादा

नई दिल्ली

अमेरिका ने भारत में रिन्यूअबल एनर्जी में दो अरब डॉलर के निवेश के साथ रेलवे इन्फ्रास्ट्रक्चर खड़ा करने में भी मदद का वादा किया है। अमेरिका इसके लिए इसी साल एक टीम भारत भेजेगा। अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने सोमवार को इंडिया-यूएस सीईओ फोरम में इसकी घोषणा की। वहीं पीएम मोदी ने अमेरिकी उद्यमियों को 'मेक इन इंडिया' का न्योता दिया। मोदी और ओबामा ने बिजनेस समिट को भी संबोधित किया।

modi obama

ओबामा का दौराः अब तक का हर अपडेट :- अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा सोमवार को इंडिया-यूएस सीईओ फोरम में भी प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ करते नजर आए। ओबामा ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने भारत का नक्शा बदलने के लिए नई ऊर्जा और जोश पैदा किया है ताकि यहां कारोबार बढ़े और तेज आर्थिक वृद्धि हो सके।



उन्होंने मोदी के स्वच्छता अभियान की भी तारीफ की। ओबामा ने कहा कि यूएस ट्रेड ऐंड इन्वेस्टमेंट डिवेलपमेंट एजेंसी भारत में रिन्यूअबल एनर्जी प्रॉजेक्टस के लिए दो अरब डॉलर देगी।



वहीं पीएम मोदी ने जोर देते हुए कहा कि सरकार को ऐसी नीतियों से संचालित होना चाहिए, जो अधिक निवेश आकर्षित कर सके। मोदी ने समिट में कहा, 'सरकार नीति संचालित होनी चाहिए। इससे निवेश में मदद मिलेगी। देश में निवेश लाने के लिए स्थिरता एक अन्य बहुत महत्वपूर्ण पक्ष है। इनसे कई समस्याएं सुलझ जाएंगी।' उन्होंने कहा कि इंफ्रास्ट्रक्चर और कृषि में भारी निवेश से अर्थव्यवस्था में सुधार होगा।

ओबामा ने अपने संबोधन में कहा कि अमेरिका दोनों देशों के बीच अधिक व्यापार, ज्यादा निवेश देखना चाहता है, जो लोगों के लिए फायदेमंद होगा। ओबामा ने कहा कि भारत व अमेरिका के बीच स्वाभाविक तालमेल है, भारत में अद्भुत व्यावसायिक प्रतिभा है। उन्होंने कहा कि हम सही दिशा में आगे बढ़ रहे हैं, अभी भी कई ऐसे क्षेत्र हैं जिनमें संभावनाओं का लाभ नहीं उठाया गया। काफी काम करने की जरूरत है। ओबामा ने संबोधन में बौद्धिक संपदा अधिकार का मुद्दा भी उठाया।



बैठक में अमेरिकी प्रतिबंधों को तीसरे देश की कंपनी पर लागू करने, कारोबार का वातावरण आसान बनाने और बौद्धिक संपदा अधिकार संरक्षण जैसे दर्जनों विषयों से जुडे मुद्दे उठाए गए। भारत के उद्योगपतियों ने दोनों देशों से जुड़े मुद्दों को आपस में साझा किया और सभी मुद्दों को उठाने के बजाय केवल प्रासंगिक क्षेत्रों की बात की।

अमेरिका-भारत बिजनस काउंसिल (यूएसआईबीसी) ने भारत के औद्योगिक नीति एवं संवर्धन विभाग (डीआईपीपी), भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) और फेडरेशन ऑफ इंडियन चैंबर्स ऑफ कॉमर्स ऐंड इंडस्ट्री (फिक्की) के साथ मिलकर इस सम्मेलन को आयोजित किया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


eight − = 5

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com