Home » National News » ऑनलाइन गर्भपात से रहें सावधान…!

नई दिल्ली:  इंटरनेट के जरिए अब पूरी दुनिया एक क्लिक पर आपके सामने होती है। तकनीक में हो रहे विकास से लाभ तो बहुत है, मगर सावधानी भी जरूरी है। इंटरनेट पर नए-नए ऑफर युवाओं को आकर्षित करते हैं। आजकल देखा जा रहा है कि पाश्चात्य संस्कृति से प्रभावित कई लड़कियां शादी से पहले गर्भवती होने पर इंटरनेट पर दवा सर्च कर स्वयं गर्भपात कर लेती हैं। ऐसा करना बेहद खतरनाक है।

 

नेट में पढ़ी जानकारी के मुताबिक, ओरल पिल्स के द्वारा अबॉशर्न एक लड़की को बहुत सरल दिखाई दिया। वह दवाई खरीद कर Babyलाई और बिना किसी डॉक्टर की सलाह लिए गोलियां खा लीं। दवा की दूसरी डोज लेते ही उसे बहुत तेजी से ब्लीडिंग शुरू हो गई। लगातार ब्लीडिंग होने से वह बहुत कमजोर हो गई, हालत बहुत ज्यादा बिगड़ गई और आखिर में उसे डाक्टर की शरण में जाना ही पड़ा।

उसके गर्भाशय से बहुत अवशेष निकाला गया। बिना किसी डॉक्टर की देखरेख में अबॉर्शन पिल लेने की वजह से उसका पूरी तरह से गर्भपात नहीं हो पाया था और संक्रमण भी बहुत अधिक फैल गया था। समय रहते कृतिका की स्थिति को संभाल लिया गया, वरना उसकी जान को भी खतरा था।

 

यह सिर्फ एक कृतिका की बात नहीं, आजकल नवयुवतियों में वेब के द्वारा अबॉर्शन आम चलन हो गया है, जो लड़कियों के लिए एक बड़ा खतरा है। इन दिनों ऐसे मामले बहुत आम हो चुके हैं। इंटरनेट के जरिए बहुत गर्भपात हो रहे हैं, ज्यादातर नवयुवतियां ही इसमें फंसती हैं।

 

दवा से गर्भपात कोई अवैध नहीं है। इस प्रक्रिया को परिवार एवं स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा 2002 में मान्यता प्रदान की गई है। मेडिकल अबॉर्शन निर्देशों के अनुसार, गर्भावस्था के  सात हफ्तों के भीतर दवा द्वारा गर्भपात किया जा सकता है यानी माहवारी के अगले तीन हफ्तों के अंदर माइफप्रोस्टिन व मीसोप्रोसटल अबॉर्शन पिल ली जा सकती है।

पहली गोली से प्रेग्नेंसी को खत्म किया जाता है और दूसरी गोली यूट्रीन कॉन्ट्रेक्शन को बढ़ाकर गर्भपात कर देती है, लेकिन यह दवा हमेशा डॉक्टर की निगरानी में ही ली जानी चाहिए, क्योंकि गर्भपात के बाद डॉक्टर अल्ट्रासाउंड के द्वारा फिर चेक करती हैं कि गर्भपात ठीक प्रकार से हुआ या नहीं, ताकि कोई अवशेष न रह जाए। एक अनुमान के मुताबिक, हर साल 18 लाख से 67 लाख गर्भपात खुद से किए गए मेडिकल अबॉर्शन के द्वारा होते हैं। इंटरनेट की मदद से गर्भपात खतरे से भरा होता है।

 

डाक्टों के मुतबिक स्वयं गर्भपात के कई गंभीर परिणाम हो सकते हैं, जैसे अत्यधिक ब्लीडिंग, अधूरा गर्भपात, डी और सी की जरूरत, रक्त में इन्फेक्शन, सदमा तथा मृत्यु की आशंका। कभी-कभी बांझपन की समस्या भी हो सकती है।  उल्लेखनीय है कि राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन के तहत महिला मृत्यु दर में सालाना आठ प्रतिशत मृत्यु दर (अर्थात 4600 मृत्यु) गर्भपात के कारण होती है। मेडिकल अबॉर्शन, गर्भपात की सरल प्रक्रिया है लेकिन यह हमेशा किसी डॉक्टर की देखरेख में ही किया जाना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


1 × eight =

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com