Home » Entertainment » ‘PK’ विवादों के दलदल में और फसी , प्रदर्शन कारियो ने गुजरात के थिएटरों में तोड़-फोड़ मचाई

आमिर खान अभिनीत ब्लॉकबस्टर फिल्म ‘पीके’ के खिलाफ प्रदर्शन तेज करते हुए बजरंग दल कार्यकर्ताओं ने हिंदू देवताओं और बाबाओं का मजाक बनाने वाली फिल्म का प्रदर्शन करने वाले गुजरात के थिएटरों में तोड़-फोड़ की और चेतावनी दी कि इसके प्रदर्शन को रोका जाए। गुजरात के अलावा दक्षिणपंथी कार्यकर्ताओं ने आगरा और उत्तर प्रदेश के मऊ और मध्य प्रदेश के भोपाल में प्रदर्शन किया और फिल्म के पोस्टर फाड़ दिए। ऐसी खबरें हैं कि दक्षिण मुंबई के परेल के एक थिएटर ने फिल्म का प्रदर्शन रोक दिया है।

अमदाबाद और गुजरात के अन्य हिस्सों में हिंसक प्रदर्शन हुआ और दक्षिणपंथी कार्यकर्ताओं ने कम से कम दो थिएटरों को फिल्म का प्रदर्शन रोकने पर मजबूर कर दिया। फिल्म ने बॉक्स आफिस पर शुरुआती 10 दिनों में 200 करोड़ रुपए से अधिक की कमाई कर ली है। फिल्म का

 
296758-pk-gujrat

प्रदर्शन 19 दिसंबर को हुआ था। फिल्म का प्रदर्शन नहीं करने के फरमान की अनदेखी करने वाले थिएटर मालिकों पर कई हिंदू संगठनों ने नाराजगी जताई है। नाराज बजरंग दल के कार्यकर्ता सिटी गोल्ड मल्टीप्लेक्स और अमदाबाद में आश्रम रोड पर शिव थिएटर में पहुंचे और टिकट खिड़की के शीशे तोड़ने शुरू कर दिए और पोस्टर फाड़ दिए। जब तक पुलिस पहुंची वे हुल्लड़बाज वहां से भाग गए।

पुलिस उपायुक्त वीरेंद्र सिंह यादव ने कहा,‘हमें इन हमलों के पीछे लोगों की पहचान करनी है। यह हमला सुबह 10 बजे के करीब हुआ। हमें पता चला कि उपद्रवकारियों ने इन दोनों थिएटरों की टिकट खिड़की के शीशे तोड़ दिए। हम उन लोगों की पहचान करने के लिए सीसीटीवी के फुटेज एकत्र कर रहे हैं। थिएटर मालिक अज्ञात उपद्रवियों के खिलाफ मामला दर्ज कराने की प्रक्रिया में हैं।’

यद्यपि पुलिस ने हमलावरों में बजरंग दल के लोगों का नाम नहीं लिया, लेकिन दक्षिणपंथी संगठन ने इसकी जिम्मेदारी ली और चेतावनी दी कि अगर उन्होंने उनके फरमान का पालन नहीं किया तो आने वाले दिनों में इसी तरह का प्रदर्शन होगा। बजरंग दल प्रमुख ज्वलित मेहता ने कहा,‘हमारे करीब 15 से 20 सदस्य सोमवार को इन थिएटरों में गए,जो आमिर की फिल्म पीके का प्रदर्शन कर रहे थे। मैं अन्य थिएटरों को प्रदर्शन रोकने की चेतावनी दे रहा हूं। हम आने वाले दिनों में अपने प्रदर्शन को तेज करेंगे।’ मेहता ने दावा किया कि आमिर अभिनीत फिल्म ने देवताओं और श्रद्धालुओं का मजाक बनाकर हिंदुओं की धार्मिक भावनाओं को चोट पहुंचाई है।

उन्होंने कहा कि उन्होंने रविवार को शहर में थिएटर मालिकों को बुलाया था और उनसे फिल्म का प्रदर्शन रोकने को कहा था। उन्होंने कहा,‘हालांकि, उन्होंने हमारी चेतावनी की अनदेखी की।’ उन्होंने कहा, ‘चूंकि उन्होंने हमें कम करके आंका और हमारी चेतावनी की अनदेखी की इसलिए हम यह दिखाने के लिए सोमवार को थिएटर में पहुंचे कि हम क्या कर सकते हैं। मैं उन्हें चेतावनी देना चाहता हूं कि अगर उन्होंने फिल्म का प्रदर्शन नहीं रोका तो हम आने वाले दिनों में इस तरह का कदम उठाने से नहीं हिचकेंगे।’ मेहता ने कहा, ‘अगर उनकी (आमिर की)मंशा सही थी तो उन्होंने अपने धर्म इस्लाम के बारे में क्यों कुछ भी नहीं दिखाया। क्यों सिर्फ हिंदू देवताओं को गलत रूप में दिखाया गया।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


5 − two =

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com